Saturday, October 21, 2017
अभी अभी

Tag Archives: amitabh

‘आप’ जैसे बिदका बैल

  जनीतिक पागलपन भी होता है।  जब आपकी कोई सुन नहीं रहा हो, आपके खेमे में हलचल मची हो , और आप अपने आप को मार्केट में रखने के हजार तरीके ढूंढ रहे हों और ऐसे में आपकी दाल बिलकुल भी न गल रही हो तो नेता लगभग पागल हो जाता है। वह  मानसिक दिवालियापन के करीब हो जाता है और ... Read More »